जानिए बसंत पंचमी के महत्व एवं शुभ मुहूर्त —

जानिए बसंत पंचमी के महत्व एवं शुभ मुहूर्त —

बसंत पंचमी --------- बसंत पंचमी के त्योहार की तैयारियां शुरू हो गई हैं. | हिन्दू कैलेंडर के अनुसार बसंत पंचमी हर साल माघ महीने के पांचवे दिन मनाई ह

दिवाली से पहले नहीं ध्यान दिया इन चीज़ो पर, तो चली जाएगी माँ लक्ष्मी………
कौन है कूष्माण्डका माता, इनकी उत्पति कैसे हुई। जानिए यहां…
दिवाली पर मिले अगर यह संकेत तो समझे होने वाली है धनवर्षा

बसंत पंचमी ———

बसंत पंचमी के त्योहार की तैयारियां शुरू हो गई हैं. | हिन्दू कैलेंडर के अनुसार बसंत पंचमी हर साल माघ महीने के पांचवे दिन मनाई है. बसंत का अर्थ है वसंत और पंचमी का मतलब है पांचवा, जिस दिन यह त्योहार मनाया जाता है.

सर्दी के महीनों के बाद वसंत और फसल की शुरूआत होने के रूप बसंत पचंमी का त्योहार मनाया जाता है. इस साल बसंत पचंमी का त्योहार 22 जनवरी को मनाया जाएगा.

बसंत पंचमी को ‘सरस्वती पूजा’ के रूप में भी मनाया जाता है.| इस शुभ अवसर पर ज्ञान की देवी का आर्शीवाद पाने के लिए विद्यार्थी उनकी पूजा करते हैं.|

इतना ही नहीं जो लोग संगीत के क्षेत्र से जुड़े होते हैं वो भी इस दिन मां सरस्वती की पूजा करते हैं क्योंकि हाथ में वीणा धारण किए हुए देवी सरस्वती को संगीत और कला की देवी भी माना जाता है.

विद्यार्थी अपनी किताबें, नोटबुक और पेन देवी सरस्वती की मूर्ति के सामने रखते हैं और सभी भक्तों के बीच मिठाई बांटते हैं. दोपहर के समय में स्वादिष्ट भोग का आनंद लेते हैं. कई स्कूलों में इस दिन सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन होता है.

इसके अलावा इस दिन प्रेम के देवता, कामदेव की भी पूजा होती है. | इस दिन पीले रंग के कपड़े पहनते हैं, पतंग उड़ाते है और स्वादिष्ट मीठे चावल बनाते हैं. | पीले रंग को वंसत का प्रतीक माना जाता है. कड़ाके की ठंड के बाद लोग पीले रंग के साथ वसंत ऋतु का स्वागत करते हैं – इस मौके पर देवी को पीले फूल और पीली मिठाई का भोग लगाया जाता है. | साथ ही इस दिन आमतौर पर लोगों के घरों में केसर हलवा और मीठे चावल बनाएं जाते हैं।

यह खूबसूरत त्योहार वसंत की शुरूआत का प्रतीक है. भारतीय संस्कृति में वसंत ऋतु को सभी मौसमों में बड़ा माना जाता है.| इस मौसम में न तो चिलचिलाती धूप होती है, न सर्दी और न ही बारीश, वसंत में पेड़-पौधों पर ताजे फल और फूल खिलते हैं. |

इसलिए हम भी आपको बसंत पंचमी के त्योहार की ढेर सारी शुभकामनाएं देते हैं.

आइये आपको पूजा का मुहूर्त बताते हे :- 

सरस्वती पूजा 22 जनवरी 2018, सोमवार के दिन मनाई जाएगी |

वसंत पंचमी पर सरस्वती पूजा का मुहूर्त :-

वसंत पंचमी पूजा मुहूर्त = 07:17

मुहूर्त की अवधि = 5 घंटे 15 मिनट

पंचमी तिथि = 21 जनवरी 2018, रविवार को 15:33 बजे प्रारंभ होगी।

पंचमी तिथि = 22 जनवरी 2018, सोमवार को 16:24 बजे समाप्त होगी।

Sol Mantra’ के आचार्य जी नें आपको साधारण शब्दों में बसंत पंचमी के महत्व एवं शुभ मुहूर्त के बारे में बताया है। ‘Sol Mantra’ पर अगर ” बसंत पंचमी “के बारे में विस्तार से जानना चहाते है या फिर सरस्वती पूजा की पूजा किस विधी से करनी चाहिए और इसकी पूजा करने से क्या फल मिलता है, तो आप सोलमंत्रा के ज्योतिषी से सम्पर्क कर सकते है। नीचे लिखे गये नम्बर पर सर्म्पक कीजिए।

Call 8882-236-236

Solmantra Best expert advice

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0